साकिबुल गनी अभी तक ज्यादा सुर्खियों में नहीं थे लेकिन शुक्रवार से उनको वह शोहरत मिली जिसका वादा उन्होंने अपनी माँ से किया था. आपको बतादे एक ऐसा नाम जिसने रणजी ट्रॉफी सीज़न में अपनी राज्य की ओर से प्रथम श्रेणी में पदार्पण पर तिहरे शतक के साथ वर्ल्ड रिकॉर्ड बना कर नाम रौशन किया । वह बिहार के लिए खेलते हैं । तीन विकेट पर 71 रन बनाकर बल्लेबाजी करने उतरे गनी ने चौथे विकेट के लिये बाबुल कुमार के साथ 538 रनों की विशाल साझेदारी की और यह सुनिश्चित किया कि बिहार की टीम जादवपुर यूनिवर्सिटी कैंपस 2 ग्राउंड, कोलकाता में प्लेट मैच में शीर्ष पर रहे.

बिहार के मोतिहारी के लाल साकिबुल के बड़े भाई फैसल गनी ने बताया कि एक अच्छे बल्ले की कीमत 30 से 35 हजार रुपये होती है.एक मध्यमवर्गीय परिवार के लिये इसे खरीदना एक सपना था. लेकिन माता,पिता ने कभी भी भाई के क्रिकेट में पैसे की कमी को आड़े नहीं आने दीया जब आर्थिक तंगी आयी तो मां अपने जेवर तक गिरवी रख दिये. साकिबुल जब रणजी ट्रॉफी खेलने जा रहे थे तो उनकी मां ने उन्हें तीन बल्ले दिये और कहा-जा बेटा, तीन शतक लगाकर आओ. और उसने किया.

साकिबुल गनी के पिता मो. मन्नान राशन दुकान के डीलर के हैं.उन्होंने बताया कि उन्हें बचपन से ही क्रिकेट का शौक था. जब वह सात साल का था, तब वह अपने बड़े भाई फैसल गनी के साथ गांधी मैदान में खेला करता था.साकिबुल गनी के चार भाई हैं. वह चार भाइयों में सबसे छोटा है. उनके बड़े भाई फैसल गनी भी तेज गेंदबाज हैं.

Leave a Reply

Pinterest
WhatsApp