इंटरनेट एक आम इंसान के जीवन में क्या बदलाव ला सकता है, इसकी एक बानगी दिखी केरल के एर्नाकुलम रेलवे स्टेशन पर, जहां एक कुली के सरकारी नौकरी करने के ख्वाब को जिसने पंख दिए और अब वह केरल लोक सेवा आयोग की लिखित परीक्षा उत्तीर्ण कर चुका है. केरल के ही मुन्नार के रहने वाले श्रीनाथ के. पिछले पांच साल से एर्नाकुलम स्टेशन पर कुली गिरी कर रहे हैं. मुन्नार के पास मौजूद इस सबसे बड़े रेलवे स्टेशन पर कुली गिरी कर अपनी आजीविका चलाने वाले श्रीनाथ ने खुद के लिए अच्छे दिनों की चाहत में स्टेशन पर उपलब्ध मुफ्त वाई-फाई का लाभ लेना शुरु किया, और अब उन्हें साक्षात्कार उत्तीर्ण कर लेने की उम्मीद है, जिसके बाद उन्हें सरकारी नौकरी मिल सकती है. श्रीनाथ ने दिखाया कि ‘डिजिटल इंडिया’ अभियान के तहत लगाए गए इस मुफ्त वाई-फाई का सकारात्मक उपयोग कैसे किया जा सकता है. 

इंसान और जानवरों के बीच गजब का याराना होता है. कई बार तो इंसान और जानवर एक-दूसरे के लिए इतना कुछ कर जाते हैं कि उस पर हर किसी को प्यार आ जाता है. आपको आसपास भी बहुत से ऐसे एनिमल लवर (Animal Lover) इंसान होंगे जो अपने पालतू जानवरों की काफी ख्याल रखते हैं. मगर कुछ लोगों को अपने पालतू जानवरों से इतना लगाव होता है कि वो उनके लिए लाखों खर्च करने से भी नहीं हिचकते.  एक महिला ने अपनी बिल्ली (Cat) के लिए इतना कीमती गिफ्ट खरीदा कि लोग देखते ही रह गए. दरअसल हलिजा मयसूरी (Haliza Maysuri) ने अपनी बिल्ली के लिए एक गोल्ड लोकेट खरीदा. जिसकी कीमत चार लाख के तकरीबन बताई जा रही है. अब अगर कोई शख्स अपने पसंदीदा जानवर पर इतना पैसे खर्च करें तो उसका चर्चा में आना तो एकदम बनता है. 

पेड़ पौधों का जीवन में बहुत महत्व है। सीधे शब्दों में कहा जाए तो इनसे ही जीवन है। इसके अलावा पेड़ पर लगने वाले स्वादिष्ट फलों से हमें कई पोषक तत्व प्राप्त होते हैं लेकिन क्या आपको पता है कि एक ऐसा ही एक पेड़ भी है, जो इतना जहरीला है कि इसे दुनिया का सबसे जहरीला पेड़ कहा जाता है। इस पेड़ का नाम है मैंशीनील। यह पेड़ फ्लोरिडा और कैरेबियन सागर बीच तटों पर पाया जाता है। इस पेड़ के बारे में कहा जाता है कि यह इतना जहरीला होता है कि अगर कोई इंसान इसके संपर्क में आ जाए तो उसके शरीर पर छाले पड़ जाते हैं। इस पेड़ का हर हिस्सा जहरीला है लेकिन इसका फल सबसे ज्यादा जहरीला माना जाता है। अगर कोई इंसान इस फल का एक टुकड़ा भी खा ले तो उसकी मौत हो सकती है। हांलांकि वैज्ञानिक इस फल को चखकर देख चुके हैं। यह फल छोटे से सेब के आकार का होता है। क्रिस्टोफर कोलंबस ने मैंशीनील के फल को मौत का छोटा सेब का नाम दिया है।

Leave a Reply

Pinterest
WhatsApp